Summary of Deep Water by William Douglas in Hindi

1

About the Writer :

विलियम ओ डगलस का जन्म 16 अक्टूबर, 1898 को मेन, मिनेसोटा में हुआ था, और वाशिंगटन के याकिमा में बढ़े हुए। उन्होंने 1916 में व्हिटमैन कॉलेज में प्रवेश किया, लेकिन उनकी पढ़ाई प्रथम विश्व युद्ध में सैन्य सेवा से जुड़ने के कारन रुक गयी। डगलस को 1920 में व्हाटमैन से स्नातक की उपाधि प्राप्त की और कोलंबिया विश्वविद्यालय में लॉ स्कूल में भाग लेने से पहले दो साल तक स्कूल पढ़ाया। 1936 में, राष्ट्रपति फ्रेंकलिन डी रूजवेल्ट ने डगलस को सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन में नियुक्त किया, और 1937 में वह अध्यक्ष बने। राष्ट्रपति रूजवेल्ट ने 15 अप्रैल, 1939 को संयुक्त राज्य अमेरिका के सुप्रीम कोर्ट में डगलस को नामित किया। वह 12 नवंबर, 1975 को सेवानिवृत्त हुए, और 19 जनवरी 1980 को अस्सी वर्ष की आयु में उनकी मृत्यु हो गई।

Summary of Deep Water by William Douglas in Hindi :

लेखक हमें सूचित करते हुए कहानी शुरू करते हैं कि उन्होंने यकीमा में वाई.एम.सी.ए. में तैराकी सीखने का फैसला किया था जब वह दस या ग्यारह वर्ष का था। वाईएमसीए पूल खतरनाक नहीं था क्योंकि यह उथले छोर पर केवल दो या तीन फीट गहरा था। जब लेखक के पिता उन्हें कैलिफ़ोर्निया में समुद्र तट पर ले गए तो लेखक केवल तीन या चार साल की उम्र में पानी में अपना पहला डरावना अनुभव प्रकट करते थे। वह अपने पिता को पकडे रहता है लेकिन उसके बावजूद भी शक्तिशाली लहरें उसे उथल पुथल कर देती हैं। और बचपन के अपने इस अनुभव के कारन लहरों की सशक्त शक्ति का आतंक उसके दिल में बैठ जाता है ।

जब उसने तैराकी सबक के लिए खुद को नामांकित किया तो यह डर उन्हें फिर से डराने लगा। हालांकि, उन्होंने आत्मविश्वास इकट्ठा किया और अपने पानी के पंखों के साथ पूल में गया। उसने अन्य लड़कों को देख कर सीखने की कोशिश की। शुरुआत में सब कुछ ठीक चल रहा था जब तक कि अठारह वर्ष के एक बड़े लड़के ने उन्हें  उठा कर और उसे पूल के गहरे छोर में फेंक न दिया, जबकि वह पूल के किनारे अकेले बैठा था ताकि दूसरों को देख कर सिख सके। परन्तु इस तरह फेके जाने के कारन वह पानी के अंदर चला जाता है और थोड़ा पानी पी भी लेता है। वह बुरी तरह से डर जाता है लेकिन फिर भी वह एक प्लान बनाता है।

उसने फैसला किया कि जब उसके पैर नीचे गिर जाएंगे, तो वह एक बड़ी छलांग लगाएगा, सतह पर आएगा, उस पर फ्लैट होगा और पूल के किनारे पर पैडल करते हुए चला जायेगा। लेकिन उनकी योजना बिल्कुल ठीक तरह से काम नहीं कर रही थी जैसा उन्होंने आशा की थी। यह एक लंबा रास्ता लग रहा था और इससे पहले कि वह पल के किनारे तक पहुँचता उसके फेफड़े फटने के लिए तैयार थे। जब उसके पैर नीचे हिट करते थे, तो उन्होंने अपनी सारी ताकत लगाकर कूदने का प्रयास किया। वह पानी से बाहर निकलने की उम्मीद कर रहा था।

लेकिन जैसा उसने सोचा था वैसा नहीं हुआ और वह वास्तव में बहुत धीरे-धीरे पानी से ऊपर आ रहा था। जब उसने अपनी आंखें खोली तो उसने देखा कि वह गंदा पीला पानी था। उसने मदद के लिए चीखने की कोशिश की, लेकिन कोई आवाज नहीं आई क्योंकि उसकी आंखें और नाक पानी से निकल गईं लेकिन उसका मुंह अभी भी पानी में था।.


Click here to Subscribe to Beamingnotes YouTube channel

बुरी तरह से थकने एवं बार बार हारने के बावजूद भी एक बार फिर वह कोशिश करता है लेकिन वह फिर विफल हो जाता है। वह डर से थरथरा रहा था क्योंकि उसके हाथ और पैरों ने आगे बढ़ने से इंकार कर दिया था। फिर उसने प्रकाश देखा- उसकी आंखें बाहर थीं और उसकी नाक लगभग बाहर ही थी लेकिन फिर वह तीसरे बार नीचे जाने लगा। इस बार लेखक ने प्रयास करना बंद कर दिया। सबकुछ शांत हो गया था और लेखक विस्मरण में जा चूका था।

जब लेखक होश में आता है तो वह अपने पेट के बल लेता उल्टी कर रहा होता है। उसने सुना कि वह लगभग मर ही गयाथा। इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना का उनके दिमाग और स्वास्थ्य पर बहुत नकारात्मक प्रभाव पड़ा। वह कई घंटों के बाद कांपते हुए घर वापस जाता है।और  इस डर के वजह से वह पूल में वापस कभी नहीं गया।

कुछ साल बाद, उसने कैस्केड के पानी के बारे में सुना और लेखक को वह देखने का मन किया लेकिन उसका डर उसे तलाशने से रोकता था। जब भी वह टाइटन या बंपिंग नदी से गुजर रहा होता था या गर्म झील में स्नान कर रहा होता था, तो पूल की अप्रिय स्मृति लेखक को परेशान करने लग जाती थी। इस आतंक के परिणामस्वरूप वह मछली पकड़ने, नौकायन या तैराकी के आनंद से हमेशा वंचित रहा।

अंत में एक बार उन्होंने एक प्रशिक्षक से तैराकी सीखने का फैसला किया। उन्होंने एक पूल में सप्ताह में पांच दिन, हर दिन एक घंटे करके अभ्यास किया। प्रशिक्षक ने उसके चारों ओर एक बेल्ट लगाया और उसमें एक रस्सी लगाई। और ट्रेनर रस्सी को पकडे रहता, परन्तु जैसे जैसे ट्रेनर रस्सी ढीली करता लेखक के अंदर डर बढ़ने लगता।

धीरे-धीरे उन्होंने पानी के नीचे श्वास लेना सिख लिया। आखिरकार, पानी के नीचे अपना सिर डालने का डर उनसे दूर चला गयााफिर प्रशिक्षक ने उसे अपने पैरों से किक करना सिखाया। पहले उनके पैर ठीक से काम नहीं कर पा रहे थे, लेकिन धीरे धीरे उन्होंने पल में तैरना सिख ही लिया।

अपने प्रशिक्षक की मंजूरी के बावजूद, लेखक संदिग्ध था कि वह पूल में अकेले होने पर अभी भी डरेगा या नहीं। डर वापस आया जब उसने अकेले तैरने की कोशिश की, लेकिन वह लंबे समय तक तैरकर लड़ा। वह अभी भी पूरी तरह से संतुष्ट नहीं था और फिर भी न्यू हैम्पशायर में वेंटवर्थ जाने का फैसला किया। उन्होंने एक गोदी और ट्रिग्स द्वीप में गोता लगयाऔर एक झील में दो मील की दूरी तैर कर पार की।

केवल एक बार जब वह झील के बीच में था तो उन्हें डर फिर से महसूस हुआ। लेकिन उन्होंने डर पर ध्यान नहीं दिया और तैरते गए। फिर भी लेखक निश्चित नहीं हुए। इस तरह अपने डर का सामना बार बार करते हुए पहली बार उसे यकीन था कि उसने अपना डर ​​जीत लिया था।

इस अनुभव ने डगलस को महान दृष्टिकोण दिए। उन्होंने महसूस किया कि केवल वे लोग जिन्होंने आतंक को जान लिया है और जीत लिया है, वे समझ सकते हैं कि उन्हें कैसा लगा। उन्होंने मरने की भावना और आतंक का अनुभव किया जिससे मृत्यु का डर पैदा हो सकता है। अब जब उसने अपना डर ​​जीत लिया था, तो वह बिल्कुल मुक्त महसूस कर रहा था।

1 Comment
  1. Aw, this was a very good post. Taking a few minutes and actual effort to make a
    great article… but what can I say… I hesitate a lot and never seem to get nearly anything done.

Leave A Reply

Your email address will not be published.