Fire and Ice by Robert Frost Summary in Hindi: 2022

Spread the love

Last updated on August 10th, 2022 at 07:47 am

About the poet:

रॉबर्ट फ्रॉस्ट का जन्म 26 मार्च 1874 को सैन फ्रांसिस्को में हुआ था। न्यू हैम्पशायर में खेती में कोशिश करने और विफल होने के बाद फ्रॉस्ट और उनकी पत्नी एलिनोर मिरियम 1912 में इंग्लैंड चले गए। यहां फ्रॉस्ट एडवर्ड थॉमस, रूपर्ट ब्रुक और रॉबर्ट ग्रेव्स जैसे समकालीन ब्रिटिश कवियों से मिले और प्रभावित हुए थे।


फ्रॉस्ट की कविता मुख्य रूप से न्यू इंग्लैंड के जीवन और परिदृश्य से जुड़ी हुई है और वह परंपरागत कवि था।  उनकी रचनाएं अमेरिका में प्रकाशित होने से पहले इंग्लैंड में प्रकाशित हो चुकी थीं। ग्रामीण जीवन के यथार्थपूर्ण चित्रण और अमेरिकी देशज भाषा पर अधिकार की वजह से उन्हें साहित्य जगत मेंं बहुत सम्मान मिला। उनकी गिनती बीसवीं सदी के लोकप्रिय और समीक्षकों द्वारा सम्मानित कवि के रूप में की जाती है। फ्रॉस्ट को उनके लेखन के लिए ढेर सारे सम्मान मिले। सिर्फ कविता लेखन के लिए ही फ्रॉस्ट को चार बार पुलित्ज़र पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

Fire and Ice by Robert Frost Summary in Hindi 

Lines 1 – 2:

Some say the world will end in fire,

Some say in ice.

इन पंक्तियों में, कवि का कहना है कि दुनिया कैसे नष्ट होगी इस बात पर सामान्य जनसंख्या दो सिद्धांतों में बटी हुई है। इन सिद्धांतों में से पहला यह कहता है कि अग्नि सर्वनाश होने का कारण बन जाएगा। इस सिद्धांत के अनुसार, पृथ्वी का केंद्र एक उत्तेजक उच्च तापमान तक गर्म हो जाएगा, फिर गर्मी अंततः ग्रह की सतह तक पहुंच जाएगी, और फिर सतह पर सबकुछ मरम्मत से परे भस्म हो जाएगा। दूसरा सिद्धांत इसके विपरीत है। गर्मी से विनाश के बजाय, यह सिद्धांत मानता है कि दुनिया तब तक जम जाएगी जब तक वनस्पति और जीवों की सभी प्रजातियां विलुप्त हो जाएंगी। इसलिए, यह सिद्धांत धरती पर रहने की स्थिति को खत्म करने के लिए बर्फ की शक्ति पर आधारित है। कवि इन दोनों सिद्धांतों से अवगत है और अब वे एक दूसरे के खिलाफ तर्क देने की ओर आगे बढ़ेंगे।

Lines 3 – 4:

Also Read:  Summary of Enterprise by Nissim Ezekiel in Hind: 2022

From what I’ve tasted of desire

I hold with those who favor fire.

इन पंक्तियों में, कवि पहले सिद्धांत की योग्यता को रेखांकित करने की कोशिश करता है – पृथ्वी के विनाश के बारे में पहला सिद्धांत यह है की पृथ्वी आग से नष्ट हो जाएगी। वह मानव जुनून और इच्छा के साथ आग की तुलना करता है। वह यह भी कहता है कि वह इच्छा की इस अवधारणा से काफी परिचित है, और जानता है कि यह मनुष्यों में उत्पादन करने में सक्षम है। इस ज्ञान को ध्यान में रखते हुए, कवि स्पष्ट रूप से कबूल करता है कि वह उन लोगों से सहमत है जो मानते हैं कि दुनिया को जलाकर  एक आग के गोले में बदल दिया जाएगा।

Lines 5 – 9:

But if it had to perish twice,

I think I know enough of hate

To say that for destruction ice

Is also great

And would suffice.

इन पंक्तियों में, कवि पहले सिद्धांत पर चर्चा करना बंद कर देता है और दूसरे सिद्धांत के बारे में बात करने के लिए चला जाता है – यह सिद्धांत बर्फ से पृथ्वी के विनाश के बारे में है। वह आग के बारे में पहले सिद्धांत को बदनाम नहीं करता है, या सर्वनाश पैदा करने में इसकी अधिक संभावना के लिए अपना समर्थन वापस नहीं लेता है। वह बस मानता है कि क्या हो सकता है अगर पृथ्वी को दूसरी बार नष्ट किया जाए। उसे यकीन है कि दूसरी बार बर्फ और ठंडे तापमान आग के समान ही पृथ्वी को प्रभावी रूप से नष्ट करने के लिए पर्याप्त होगा।

Also Read:  Summary of Daffodils by William Wordsworth in Hindi: 2022

कवि तब घृणा के साथ बर्फ की तुलना करता है। वह कहता है कि नफरत एक ऐसी भावना है जिससे वह भली भाँती परिचित है, और वह जानता है कि घृणा से किस तरह का कट्टरतावाद उत्पन्न हो सकता है। इस ज्ञान के साथ, वह इस निष्कर्ष पर आता है कि बर्फ की उम्र और मनुष्य के दिल में ठंड दोनों दूसरी बार सर्वनाश का कारण बन सकती है।

We Need your Help to Grow: Looking for Volunteers for Beamingnotes!

We have been providing English notes, summaries, and, analysis for years. This has helped a lot of students across the globe. Right now we are looking for volunteers who have a strong command of English and is ready to volunteer for a month. All volunteers will be given an internship certificate after the successful submission of 30 plagiarism-free quaity writeups! All the writeups will be published on the website under your name. If interested, please reach out to [email protected] over email with the SUBJECT: I WANT TO VOLUNTEER, and we shall get back to you soon!