A Tiger in the Zoo Summary by Leslie Norris in Hindi

0

About the Poet :

लेस्ली नॉरिस एक कवि और लघु कहानी लेखक थे। उनका जन्म 1921 में वेर्थ मेरथिर टाइडफिल, वेल्स में हुआ था। नॉरिस 12 साल की उम्र में ही कवि बनना चाहता था। किशर अवस्था में, वे डिलन थॉमस और वेरनॉन वाटकिंस जैसे कवियों को सुनने के लिए अपने बाइक से पास के शहर में सवारी करके जाते थे। नॉरिस की पहली कविता 1938 में प्रकाशित हुई थी और उनकी पहली पुस्तक कविता 1943 में आई थी।जुलाई 1948 में, नॉरिस को कैथरीन मॉर्गन के साथ प्यार हो गया और साथ में वे इंग्लैंड चले गए और शिक्षकों के लिए प्रशिक्षिण लेना शुरू किया। आखिरकार 1974 नॉरिस ने खुद को लेखन में समर्पित करने का फैसला किया और कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा।


A Tiger in the Zoo Summary by Leslie Norris in Hindi

1st stanza:

He stalks in his vivid stripes

The few steps of his cage,

On pads of velvet quiet,

In his quiet rage.

इन पंक्तियों में, कवि चिड़ियाघर और उसके दैनिक जीवन में बाघ की उपस्थिति का वर्णन करता है। वह कहता है कि उसके शरीर पर गहरे रंग की पट्टियां अपने बाकी शरीर की तुलना में ज्यादा चमकदार और और गहरे हैं, और इसलिए वे दूरी से देखे जाने पर भी स्पष्ट रूप से दिखाई देते हैं। वह बहुत धीरे और स्थिरता से चलता है जैसे जंगली बाघों की आदत होती है। लेकिन पिंजरे में केवल अंतर यह है कि बाघ केवल अपने पिंजरे की लंबाई तक चल सकता है, और यह केवल कुछ ही चरणों में उस दूरी को कवर कर लेता है। बाघ के पंजे के नीचे मखमल के रूप में चिकनी पैर है और इसलिए उसके चलने पर कोई आवाज नहीं आती है। ऐसा लगता है कि बाघ को कैद होने पर महसूस होने वाले सभी क्रोध इसी तरह दबा दिये गए हैं।

2nd stanza:

He should be lurking in shadow,

Sliding through long grass

Near the water hole

Where plump deer pass.

इस पंक्तियों में, कवि बाघ के लिए एक वैकल्पिक जीवन की कल्पना करता है जो वर्तमान में चिड़ियाघर में रह रहा है। वह कल्पना करता है कि अगर यह बाघ जंगल में रहता तो कैसा होता। वह कहता है कि सामान्य परिस्थितियों में, इस तरह के बाघ स्पष्ट दिन की रोशनी में कभी बहार नहीं आते हैं, बल्कि केवल जंगल में छायादार स्थानों के बीच अंधेरे में रहते हैं। बाघ हमेसा लंबे घास के पीछे छुप कर अपना शिकार करते हैं ताकि उनके शिकार उनके मौजूदगी का पता लगाने में सक्षम न हो। इस तरह बाघ को छुपकर पानी पिने की जगह तक जानी चाहिए जहां जंगल के सभी जानवर धूप के दोपहर में पानी पिने आते हैं। वहां यह हिरण के सामने अचनाक से आ सकता है और उसे आसानी से अपना शिकार बना सकता है। दूसरे शब्दों में, चिड़ियाघर अधिकारियों द्वारा खिलाए जाने के बजाए जंगली जानवरों को शिकार करने और अपने भोजन को इकट्ठा करने के लिए छोड़ दिया जाना चाहिए।


3rd stanza:

He should be snarling around houses

At the jungle’s edge,

Baring his white fangs, his claws,

Terrorising the village!

इन पंक्तियों में कवि का कहना है की भले ही बाघ जंगलो में रहे लेकिन इसका यह, मतलब नहीं है की उनका मनुष्य से नाता टूट जायेगा या फिर उनका मनुष्य से कोई संपर्क नहीं होगा। क्युकी घने जंगलों में रहने के बावजूद बाघ दिन में कभी न कभी जंगलों की सिमा तक चले आते हैं जहाँ मनुष्यों के घर होते हैं। वहां आकर बाघ दहाड़ते हैं और इन दहाडों से मनुष्यों को उनकी मौजुदगी का पता चलता है। और बाघ खुद को छुपाने की कोशिस भी नहीं करते मनो वे अपनी मौजूदगी अपने पंजो के छाप से महसूस करवा रहे हों।

4th stanza:

But he’s locked in a concrete cell,

His strength behind bars,

Stalking the length of his cage,

Ignoring visitors.

इन पंक्तियों में, कवि एक बार फिर वास्तविक जीवन में लौट आते हैं। वह बाघ के वैकल्पिक जीवन की कल्पना करना बंद करता है और उसके असली जीवन अर्थात कैद में उसके जीवन पर ध्यान देता है। वह कहता है कि बाघ को जेल में कैदी की तरह बंद कर दिया गया है, कंक्रीट से बने एक छोटे से सेल के भीतर। उसके शरीर में रहने वाली सारी ताकत धातु के सलाखों के पीछे बंद हो जाती है जो इसके सेल के द्वार को बनाती है। सैकड़ों, या यहां तक कि हजारों लोग  चिड़ियाघर में बाघ को देखने के लिए आते हैं, लेकिन यह इन आगंतुकों को कोई ध्यान नहीं देता है। इसके बजाए बाघ अपने पिंजरे पर चुपचाप चलने के लिए और मानव हस्तक्षेप के रूप में किसी भी प्रकार की परेशानी के बिना चलना पसंद करता है।

5th stanza:

He hears the last voice at night,

The patrolling cars,

And stares with his brilliant eyes

At the brilliant stars.

इन पंक्तियों में, कवि वर्णन करता है कि बाघ के लिए दिन कैसे समाप्त होता है। यह ज़ूकिपर के जाने की आखिरी आवाज़ तक जागता रहता है और ज़ूकीपर के घर जाते वक्त आवाज सुनता है। उसके बाद भी, यह सो नहीं जाता है। सारी रात, पार्क रेंजर्स चिड़ियाघर के आसपास के इलाकों में अपने आधिकारिक वाहनों में घूमते रहते हैं। बाघ जागता रहता है और गश्त की कारों द्वारा निकली गई आवाज़ सुनता है। तारे रात के आसमान में चमकीले चमकते हैं, और बाघ की आंखें भी चमकती रहती हैं। बाघ यह सोचकर तारों के तरफ एक टक ताकता रहता है की उसे नींद आ जाए पर नींद उसे चकमा देकर भाग जाती है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.