Summary of Macavity: The Mystery Cat by T.S Eliot in Hindi

2

About The Poet T.S Eliot in Hindi :

Thomas Stearns Elliot 26 सितंबर, 1888 को पैदा हुए थे। थॉमस स्टर्न्स इलियट एक निबंधकार, एक आलोचक, एक नाटककार और बीसवीं शताब्दी के प्रसिद्ध कवियों में से एक थे। उनकी प्रसिद्ध कविताओं में से कुछ ‘द वेस्ट लैंड’, ‘लव सोंग ऑफ़ जे अल्फ्रेड प्रूफॉक’, ‘जर्नी ऑफ दी मागी’, ‘न्यूजिंग ऑफ बिल्ड्स’ आदि शामिल हैं। उन्होंने 1948 में साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार जीता।

Summary of Macavity: The Mystery Cat by T.S Eliot in Hindi :

थॉमस स्टर्न्स इलियट ने अपनी कविता “मैकविटी: द मिस्ट्री कैट” में बेहद खलनायक लक्षण वाली एक रहस्यमय बिल्ली का वर्णन किया है। यह बिल्ली ‘Hidden Paw’ नाम से जाना जाता है क्योंकि वह आपराधिक मास्टरमाइंड हैं जो कानून का खंडन करता है। वह स्किटलैंड यार्ड और फ्लाइंग स्क्वाड जैसे विश्व की विशेष जासूसी एजेंसियों को भी रहस्यपूर्ण लगता है। इन एजेंसियों ने इस चतुर बिल्ली से अपनी हार स्वीकार कर ली। और इसीलिए इसे स्कॉटलैंड यार्ड के लिए एक सर दर्द  समझा जाता है।

जब वे अपराध के दृश्य तक पहुंचते हैं- मैक्विटी नहीं होती है। Macavity इतनी चालाक है की वह पकड़ी नहीं जा सकती और वह कभी भी क्राइम स्पॉट में नहीं मिलती है। कवि के अनुसार मैकविटी मनुष्य द्वारा बनाये गए कानून के साथ साथ प्रकृति के गुण जैसे ग्रेविटी का भी उलंघन करता है। उसका हवा में उछलना इतना खतरनाक है की वह एक फ़क़ीर को भी घबरा देती है। अर्थात हम आसानी से देख सकते है उसे उछलते हुए हवा में तैरते हुए लेकिन जब घटनास्थल में पहुंचे तो वो वहां नहीं होती है चाहे आप जहाँ भी खोज लो।


Click here to Subscribe to Beamingnotes YouTube channel

टी.एस. एलियट ने मैक्विटी को एक ऐसी बिल्ली के रूप में वर्णित किया है जो लंबी और पतली है। वह उसकी आंखों से पहचाना जा सकता है जो गहरी धूमिल हैं। उसके फोरहेड में सोच की लकीरे हैं। उसका सर पूरी तरह से गोल है और उसकी सरीर काफी गन्दा है और उसकी मुछ बिखरी हुई है। वह किसी सांप की भाति हरकत करता है। और जब वह सोया हुआ नजर आता है तब भी वह पूरी तरह से जगा हुआ रहता है।

कवि कहते हैं कि मैकविटी की तरह कोई नहीं है। वह एक बिल्ली के भेष में शैतान है; वह दुष्टता का एक राक्षस है कोई उसे सड़क पर या चौक में मिल सकता है लेकिन जब अपराध की खोज की जाती है, तो मकौविटी वहां नहीं होती है। मैक्विटी के  footprint’s स्कॉटलैंड यार्ड के किसी भी फाइल में कभी नहीं मिले।

यहां, कवि उनके कुछ अपराधों का उल्लेख करता है वे कहते हैं कि मेकविटी भोजन भंडार (larder) से हमेशा खाना चुराती है, और गहने के डब्बा भी चुरा ले जाती है। ग्रीन हाउस गिलास या सलाखें के टूटने के पीछे भी इसी का हाथ है। जब कभी दूध ख़तम हो जाता है या फिर कुत्ते के बच्चे को मार दिया जाता है तो इसके पीछे Macavity का ही हाथ होता है। और सबसे चुकाने वाली बात जो इन सभी घटनाओं को जोड़ती है वह यह है की जब घटना का पता चलता है तब Macavity वहां नहीं होती है।

जब कोई जरुरी दस्तावेज यह चित्र नहीं मिलता है तो छान बिन करना वयर्थ है क्युकि यह सभी को पता है की अपराधी बिना कोई सक के macavity ही है। लेकिन तब तक वह मिलो दूर बैठकर आराम फार्मा रही होती है। कविता की अंतिम पंक्ति में कवि कहता है की इस तरह की जालसाज और मौकेवार बिल्ली अभी तक कोई नहीं हुई है। कवि यहाँ दूसरे बिल्लियों को macavity का एजेंट बोलते है और उसे Napoleon of Crime की उपाधि देते हैं।

2 Comments
  1. Rahul kumar says

    nice summary of hindi very excellent

  2. Rahul kumar says

    yaa really to good

Leave A Reply

Your email address will not be published.